Friday, July 28, 2006

कुछ विलक्षण, अद्भुत, विस्मयकारी तथ्य

कुछ विलक्षण, अद्भुत, विस्मयकारी तथ्य
मेहरबान, कदरदान भाइयों, बहनों, भाभियों और बहनोइयों (पानदान, पीकदान, थूकदान, कूडादान या नादान नही)
यहां पर आपको कुछ ऐसे तथ्यों के बारे में बता रहा हूँ, जो कि सचमुच विस्मयजनक हैं, अनूठे हैं, जिन्हे पढकर आप दांतों में उंगलियां दबा लेंगे। तो दिल थाम के बैठिये और पढते जाइये।

कोका कोला सबसे पहले हरे रंग की थी।
दुनिया में सबसे ज्यादा प्रचलित नाम है "मोहम्मद"।
विश्व में सारे महाद्वीपों का अंग्रेजी नाम उसी अंग्रेजी अक्षर से शुरू होता है, जिससे समाप्त होता है।
TYPEWRITER अंग्रेजी भाषा का सबसे बडा अक्षर है जो कि कीबोर्ड की एक ही पंक्ति से टाइप किया जा सकता है। क्या आप हिंदी भाषा का ऐसा शब्द ढूंढने में मेरी मदद करेंगे?

महिलायें पुरुषों से दुगुनी बार पलक झपकाती हैं।
चाहें भी तो आप अपनी सांस रोककर अपने आपको नही मार सकते।
आप अपनी कोहनी को जीभ से कभी नही चाट सकते।
छींकने पर लोग "Bless you" ब्लेस यू बोलते हैं क्योंकि छींकते वक्त आपका हृदय एक मिलीसेकण्ड के लिये रुक जाता है।

सुअरों के लिये आसमान की तरफ देखना शारीरिक संरचना के तौर पर संभव नही है।

अंग्रेजी का सबसे कठिन बार बार न बोला जा सकने वाला वाक्य है "sixth sick sheik's sixth sheep's sick", अब बतायें हिंदी का ऐसा वाक्य कौन सा है "चंदा चमके चमचम चीखे चौकन्ना चोर" या "पके पेड पर पका पपीता" या "कच्चा पापड पक्का पापड" या कोई और?

अगर आप बहुत जोर से छींकते हैं तो आप अपनी गले की हड्डी तोड सकते हैं।
और अगर आप बहुत जोर से आती छींक रोकते हैं तो आप सिर या गले की अपनी खून की एक नलिका तोड सकते हैं और मर भी सकते हैं।

ताश के पत्तों में मौजूद सारे चार राजा, ऐतिहासिक रूप से महान थे -
स्पेड - किंग डेविड
क्लब्स - महान सिकंदर
हर्ट्स - कार्लेमैग्ने
डायमण्ड - जूलियस सीज़र

१११,१११,१११ का १११,१११,१११ में गुणा करने पर प्राप्त होता है १२,३४५,६७८,९८७,६५४,३२१
(111,111,111 x 111,111,111 = 12,345,678,987,654,321)

अगर किसी पार्क में घोडे पर बैठे हुए किसी व्यक्ति या महिला की प्रतिमा में घोडे के दोनों सामने के पैर हवा में हैं, तो यह इस बात का संकेत है कि उस व्यक्ति या महिला की मृत्यु युद्ध में लडते हुए हुई थी, यदि घोडे का एक पैर हवा में है तो यह इस बात का संकेत है कि उस व्यक्ति या महिला की मृत्यु युद्ध से मिले घावों के कारण हुई थी, यदि घोडे के चारों पैर जमीन पर हैं तो यह इस बात का संकेत है कि उस व्यक्ति या महिला की प्राकृतिक मृत्यु हुई थी।

दुनिया में कभी खराब न होने वाला एकमात्र खाद्य पदार्थ है "शहद"।
एक घडियाल अपनी जीभ बाहर नही निकाल सकता।
एक घोंघा तीन वर्ष तक सो सकता है। (नींदप्रिय लोग भगवान से अगले जन्म में घोंघा बनाने की मांग कर सकते हैं)
सारे ध्रुवीय भालू (पोलर बियर) वामहस्त (left handed) होते हैं।
तितलियां किसी भी वस्तु को जीभ से चखती हैं।

दुनिया का एकमात्र न कूद सकने वाला जानवर हाथी है।
दुनिया में औसत तौर पर लोग मकडियों से मृत्यु से भी ज्यादा डरते हैं। (मकडी बोले तो शबाना आजमी, नही क्या)
'assassination' व 'bump' जैसे शब्दों का आविष्कार शेक्सपियर ने किया।
कीबोर्ड पर केवल बायें हाथ से टाइप किया जा सकने वाला अंग्रेजी शब्द है "Stewardesses"।
चींटी बेहोश होने पर हमेशा उसकी दाईं तरफ ही गिरती है।

"The electric chair" या बिजली की कुर्सी का आविष्कार एक दांतों के डाक्टर(dentist) ने किया था।
मानव हृदय कार्य करते समय खून को तीस फुट की ऊंचाई तक फेंकने लायक दवाब बनाता है।
चूहे बच्चे पैदाकर अपनी संख्या इतनी तेजी से बढाते हैं कि दो चूहे १८ महीनों में दस लाख से अधिक हो सकते हैं।
कान में एक घण्टे हेडफोन लगाने से आपके कान में बैक्टीरिया ७०० गुना बढ जाते हैं।
सिगरेट लाइटर का आविष्कार माचिस से भी पहले हुआ था।

९५ प्रतिशत लिप्स्टिक बनाने में मछली की खाल पर पाये जाने वाले स्केल्स का उपयोग होता है।
दुनिया में हर व्यक्ति की उंगलियों के अलावा जीभ का निशान भी अलग अलग होता है।

और अंत में
९९ प्रतिशत लोग जिन्होने इसे पूरा पढा उन्होने अपनी कोहनी को चाटने की कोशिश की है।

6 प्रतिक्रियाएँ:

  • प्रेषक: Blogger Ashish Gupta [ Friday, July 28, 2006 9:50:00 PM]…

    छाया जी, जानकारी तो अच्छी थी पर बहुत सी बातें इसमें अफ़वाहें भी हैं। विशेषकर घोड़े के पैरों की स्थिती वाली। urbanlegends के पन्ने पर बहुत सी बातो का खंडन है।

     
  • प्रेषक: Blogger Pankaj Bengani [ Saturday, July 29, 2006 12:09:00 AM]…

    अच्छी जानकारी

     
  • प्रेषक: Blogger Manish [ Saturday, July 29, 2006 3:35:00 AM]…

    रोचक जानकारी दी है आपने ।

     
  • प्रेषक: Blogger SHUAIB [ Saturday, July 29, 2006 10:10:00 AM]…

    छाया जीः कहां से खींच लाए ऐसी जानकाररियाँ - धन्यवाद आपका

     
  • प्रेषक: Anonymous आशीष [ Saturday, July 29, 2006 10:15:00 AM]…

    मैने अपनी कोहनी नही चाटी !
    मै ये काम बचपने मे कर चुका हूं, याद है दूरदर्शन पर एक कार्यक्रम आता था ऐसा भी होता है ! उसमे देखा था :)

     
  • प्रेषक: Blogger ई-छाया [ Monday, July 31, 2006 1:06:00 PM]…

    आप सभी का पढने वालों का धन्यवाद।

     

प्रतिक्रिया प्रेषित करें

<< वापस