Friday, August 11, 2006

विदेश यात्रा करने से पहले

मुझे याद है जब मै पहली बार देश छोडकर कुछ दिनों के लिये ही सही, विदेश जाने वाला था तो क्या रखूं क्या न रखूं, तैयारी कैसे करूं, जैसे बेहद जटिल सवाल मुझे मथ रहे थे। मैने अंतरजाल पर भी बहुत ढूंढा, लेकिन कुछ खास नही मिला। जो मिला वो भी अंग्रेजी में था, और अधूरा था और हम भारतीयों के लिये ज्यादा उपयोगी नही था। उस यात्रा और उस के बाद की कई यात्राओं की तैयारियों में मैने बहुत कुछ सीखा। बहुत दिनों से सोच रहा था कि ऐसा कुछ हिंदी में होना चाहिये। अतः पेश है एक सूची, लेकिन इसके पहले कि आप इसे पढें या उपयोग में लें, एक निवेदन है कि इस तरह की कोई भी सूची कभी पूरी नही हो सकती, तो जो लोग मेरी तरह इस स्थिति में हैं कि कुछ जोड या घटा सकते हैं, कृपया मेरी मदद करें। आपके संशोधन टिप्पणियों में लिखें या अपने चिठ्ठे पर लिखें। उद्देश्य मात्र इतना ही है कि मेरे अनुभव दूसरों के काम आयें। मेरी तरह अगर कोई अंतरजाल पर ढूंढे तो उसे शायद यह मिल सके और अगर किसी की थोडी मदद हो सके, तो लिखना सार्थक।

वैसे तो अलग अलग जगहों पर जाने के लिये तैयारी अलग अलग तरीके से की जानी चाहिये, और सबसे अच्छा तरीका है उस जगह (गंतव्य) पर पहले से बसे आपके जैसे ही कुछ लोगों से संपर्क करें और उपयोगी जानकारियां हासिल करें। इसके साथ ही आपकी यात्रा का उद्देश्य क्या है, इस पर भी बहुत कुछ निर्भर करता है। लेकिन फिर भी पेश है एक सूची और कुछ हिदायतेंः-

१) चेक इन किया जाने वाला सामान - आम तौर पर किसी भी अंतर्राष्ट्रीय यात्रा के लिये दो प्रकार के सामान उपयोग किये जाते हैं। पहले वह जो कि "चेक इन" किये जा सकें, मतलब वह सामान जो आपकी यात्रा की शुरुआत में एयरलाइन आपसे ले लेगी और आपकी यात्रा के अंतिम हवाई अड्डे (एयरपोर्ट) पर आपको वापस मिलेगा। कृपया अपनी एयरलाइन से यह जांच कर लें कि कितने चेक इन बैग्स ले जाये जा सकते हैं, उनका अधिकतम आकार कितना हो सकता है, और उनमें कितना भार ले जाने के लिये आप बिना किसी जुर्माने के अधिकृत हैं। भार अधिक होने पर आपको जुर्माना भरना पड सकता है। आकार निर्धारित आकार से बडा होने पर एयरलाइन उसे लेने से मना कर सकती है। चेक इन बैग का आकार लंबाई, चौडाई व ऊंचाई जोडकर ६२ इंच से अधिक नही होना चाहिये। साधारणतया २८ से ३० इंच लंबा १८ से २० इंच चौडा और १२ से १५ इंच मोटा बैग प्रयोग किया जाता है। आम तौर पर भारत से यूरोप के लिये प्रति व्यक्ति एक चेक इन बैग ले जा सकते हैं और वजन १५ से २० किलोग्राम (एयरलाइन से पता करें), अमेरिका के लिये प्रति व्यक्ति दो चेक इन बैग ले जा सकते हैं और वजन २५ से ३० किलोग्राम तक हो सकता है। कोशिश करें कि बैग ज्यादा खाली या ज्यादा भरा न हो। अगर पहिये वाला हो तो आपको अधिक सुविधा होगी।

२) कैरी आन किया जा सकने वाला सामान - यह वह सामान है जो आप अपने साथ रख सकते हैं। ज्यादातर यह सामान पहिये वाला छोटा बैग होता है, यदि इसमें पकडने के लिये लंबा हैंडल हो बहुत अच्छा। इसमें कोई भी धारदार वस्तु न रखें, यदि आप अपना शेविंग किट या लाइटर इस बैग में रखते हैं तो सुरक्षा जांच में आपको वह फेंकना पडेगा। इसके लिये भी अपनी एयरलाइन से जांच कर लें कि इनका अधिकतम आकार कितना हो सकता है, और उनमें कितना भार ले जा सकते हैं। वैसे सामान्यतः कैरी आन किये जाने वाले सामान का वजन कोई नही करता, लेकिन यह हवाई जहाज के अंदर आपकी सीट के ऊपर बने लोफ्ट में या आपकी सीट के नीचे आने लायक होना चाहिये। सामान्यतः इनमें ८ से १० किलोग्राम वजन लेकर आप चल सकते हैं। यह हमेशा प्रति व्यक्ति एक ही ले जाया जा सकता है। लैपटॉप या महिलाओं का पर्स या छोटे बच्चों का नैपी बैग अलग से ले जाया जा सकता है।

३) अपने सामान में औपचारिक (फार्मल) तथा अनौपचारिक (इनफार्मल) दोनों तरह के कपडों का उचित अनुपात रखें।

४) गंतव्य स्थल के वातावरण के अनुसार गर्म कपडे आदि रखें।

५) सफर करते समय बडे बडे जेबों वाले कपडे पहनें। ऐसा करने से आप बहुत से कागज, दस्तावेज, पासपोर्ट आदि जल्दी जल्दी इधर उधर भागते समय सुविधापूर्ण तरीके से जेब में डाल सकते हैं।

६) सफर के समय कुछ सामान्य दवाइयां रख लें (सरदर्द, पेट, बुखार आदि), लेकिन दवाइयों के साथ डाक्टर का प्रिस्क्रिप्शन भी रख लें।

७) अगर चश्मा पहनते हैं, तो एक बैकअप चश्मा जरूर रखें, वैसे अगर लंबे समय के लिये बाहर जा रहे हैं और चश्मे का नंबर स्थिर है, तो दो से ज्यादा चश्मे रखें, क्योंकि ज्यादातर नया चश्मा बनवाना भारत से विदेश में बहुत ज्यादा महंगा है।

८) पासपोर्ट की कई ज़ीरॉक्स करवा लें और अलग अलग सामानों में रखें।

९) पासपोर्ट किसी भी हालत में न गुमायें, अगर गुम जाता है तो आप बडी मुसीबत में पड सकते हैं। लेकिन ऐसा हो जाने पर भी अगर आपके पास उसकी कोई ज़ीरॉक्स प्रति है, तो आप अपेक्षाकृत बेहतर स्थिति में हैं।

१०) अगर हो सके तो कमर में बांधने वाला चमडे का "पाउच" या पट्टे सरीखा बैग या पर्स खरीद लें, यह पासपोर्ट आदि रखने के लिये सबसे बेहतर होता है।

११) भारतीय मसाले हर जगह नही मिलते, और मिलते भी हैं तो बहुत महंगे। अपने साथ कुछ पैकेट रख लें।

१२) बिजली का कोई भी उपयंत्र रखने से पहले यह पता करें कि गंतव्य स्थल पर कितने वोल्ट या फ्रिक्वेंसी की विद्युत प्रणाली है, जैसे अमेरिका में ११५ वोल्ट है।

१३) अपने साथ गंतव्य के जरूरी फोन नंबर बहुत संभाल कर रख लें।

१४) यदि कहीं पर भी आपकी फ्लाइट छूट जाये, घबरायें नही, एयरलाइन्स के लोगों से संपर्क करें। वे आपके रुकने का इंतजाम करेंगे। आपको फोन काल करने व खाने के लिये कूपन भी देंगे।

१५) हो सके तो यात्रा शुरू करने से पहले गंतव्य स्थल की कुछ मुद्रा खरीद कर रख लें। इसके लिये आपके पास वैध वीसा और टिकट होना चाहिये। यह मुद्रा आपको विमान में कुछ खरीदने या स्नैक्स के लिये या उतरने के तुरंत बाद काम में आ सकती है।

१६) अपने ट्रैवेलर्स चेक आदि संभाल कर रखें, उसकी रसीद दूसरी जगह पर रखें। कागज आदि निकालते समय ध्यान रखें कि आप उन्हे गिरा न दें। ट्रैवेलर्स चेक खो जाने पर तुरंत ग्लोबल नंबर पर फोन कर उसे निरस्त कर दें।

१७) शेविंग किट साथ ले जाने वाले (कैरी आन) सामान में न रखें।

१८) सामान में कोई खुला खाने का सामान न रखें, मतलब सारा खाने का सामान सील्ड पैक करके ही रखें, नही तो वह फेंक दिया जायेगा।

१९) हवाई जहाज में ज्यादा न खायें। हमेशा हल्का फुल्का खायें और थोडा सोने की कोशिश करें।

२०) यदि दो लोग साथ सफर कर रहे हों तो एक घडी में स्थानीय समय (जो कि बदलता रहेगा, इसके लिये फ्लाइट में होने वाला प्रसारण देखें) और दूसरी घडी में गंतव्य या जहां से शुरू किया था उस जगह का समय रखें। या फिर दो समय दर्शाने वाली एक घडी रखें।

२१) यदि किसी से कहीं मिलने का निश्चय किया है, पूरी तौर पर पक्का कर लें कहां मिलना है।

२२) यदि कस्टम में कुछ डिक्लेयर करने लायक (जैसे जानवर की खाल आदि) है तो कस्टम के लाल दरवाजे से निकलें और फार्म भरें, नही तो हरे दरवाजे से निकल जायें।

२३) किसी भी फ्लाइट में धूम्रपान वर्जित है। फिर भी अगर तलब हो रही है तो पहले पूछताछ करें।

२४) हवाई जहाज में अपने से पहले महिलाओं बच्चों और वृद्धों को चढने व उतरने दें।

२५) यदि आप शाकाहारी हैं तो टिकट लेते समय ही एजेंट को बता दें। इसके बावजूद बहुत सावधान रहें। कोई भी सफेद चटनी अंडे की हो सकती है।

२६) उडान में कभी भी ज्यादा मद्यपान न करें।

२७) बच्चों के साथ सफर करते समय ध्यान रखें कि जरूरत होने पर आप एयर होस्टेस से खिलौने या पुस्तकें मांग सकते हैं।

२८) सामान पैक करते समय अपने कपडे व सामान कुछ इस तरह सारे बैगों में रखें कि कोई एक बैग गुम जाने या अवलंबित हो जाने पर आप बिल्कुल अपाहिज न हो जायें। सफर में सामान गुम जाना एक आम बात है। ज्यादातर आपका सामान आपको गंतव्य पर पंहुचने के बाद कुछ दिनों या घंटों में मिल जाता है।

२९) अपने साथ थोडी रुई या इयर प्लग रखें। कभी कभी उडान के दौरान दवाब बदलने से कान में दर्द होने पर इस्तेमाल करें।

३०) यदि गंतव्य पर बहुत से लोगों से मिलने वाले हैं, देने के लिये छोटे छोटे उपहार रख सकते हैं।

३१) यदि कोई पुराने कपडे जिन्हे आप वापस लाने में इच्छुक न हों, रख सकें या पहन सकें तो आपके लौटते समय उन कपडों के कारण बची जगह का उपयोग खरीदे गये स्मृतिचिह्न आदि ृकने में कर सकते हैं।

३२) अपने साथ कम से कम पांच छः जोडी अधोवस्त्र (अंडरवियर व बनियान) रखें। कई जगह सप्ताह में एक बार मशीन से कपडे धोने का मौका मिलेगा, वहां काम आयेंगे।

३३) कपडे इस तरह के रखें कि एक या दो जोडी जूतों के साथ काम चल सके। वैसे काले जूते सबके साथ चल जाते हैं।

३४) विदेश में होटेल से फोनकाल करने से पहले हमेशा पता करें कि कितना पैसा ज्यादा देना पडेगा।

३५) होटेल छोडने से पहले उसका पता या कार्ड लेना न भूलें। भाषा की जानकारी न होने पर भी होटेल लौटने के लिये आप कार्ड दिखा कर काम चला सकते हैं।

३६) अगर भारत से अमेरिका जा रहे हैं तो आपको पंहुचने के बाद कुछ दिनों तक "जेट लैग" का सामना करना पड सकता है, जिसमें आपको रात में नींद खुल जाने और दिन में नींद आने की परेशानी का सामना करना पड सकता है, क्योंकि आपका शरीर भारत में नियमित दिनचर्या का अभ्यस्त है। परेशान न हों यह कुछ दिनों मे अपने आप ठीक हो जायेगा।

३७) लंबी हवाई यात्रा के दौरान बीच में थोडी वर्जिश करें। इससे आपको पैर सूजने, थकान या पीठ के दर्द में थोडा आराम मिलेगा।

३८) सामान चेक इन करते समय निवेदन करें कि अंतिम गंतव्य स्थल के लिये चेक इन करें। आप खुद चेक इन टैग में देखकर यह निश्चित करें कि यह ठीक है और अंतिम गंतव्य स्थल को दर्शा रहा है।

३९) अपने हर सामान के ऊपर बडे बडे अक्षरों में अपना नाम पता चिपकायें।

४०) अगर कोई द्रव पदार्थ ले जाना जरूरी हो, तो उसे प्लास्टिक बैग में रखें।

४१) अपने साथ एक अच्छा पेन जरूर रखें, यात्रा के दौरान बहुत से फार्म भरने पडते हैं। भले ही आपको कोई लेने आ रहा हो, फिर भी होटेल का पता रखें, हो सकता है किसी फार्म में ही भरना पडे। थोडा पेपर या छोटी नोटबुक भी रखें, शायद कहीं कुछ नोट करने की इच्छा हो जाये या किसी से मुलाकात हो जाये।

४२) एक चादर और छोटी तौलिया रखें, क्या पता कहां जरूरत पड जाये।

और ज्यादा टिप्स के लिये यहां यहां या यहां देख सकते हैं। या फ्री टैवेल टिप्स पर भी जा सकते हैं।

धन्यवाद।

टैगः ,

8 प्रतिक्रियाएँ:

  • प्रेषक: Blogger Ashish Gupta [ Friday, August 11, 2006 2:23:00 PM]…

    अमेरिका में जाने वाले विद्यार्थी इस लेख को भी पढ़ सकते हैं:
    http://www.geocities.com/ashish_iitm/files/AfterAidUpdated.doc

    (ई-छाया जी: अगर ये लिंक विज्ञापन प्रतीत होता हो तो हटाने में संकोच ना करें)

     
  • प्रेषक: Blogger Udan Tashtari [ Friday, August 11, 2006 4:23:00 PM]…

    बहुत उपयोगी लेख है नये आने वालों के लिये.बधाई.
    समीर लाल

     
  • प्रेषक: Blogger रत्ना [ Saturday, August 12, 2006 10:09:00 AM]…

    काफी सोच विचार के लेख लिखा है। एक भी चीज़ मै ऐसी न सोच पाई जो आपकी सूची में न हो।

     
  • प्रेषक: Blogger ई-छाया [ Monday, August 14, 2006 12:30:00 PM]…

    सभी पढने वालों का धन्यवाद।
    आशीष भैया, हटाने का सवाल ही नही, हमारा आपका उद्देश्य एक ही है। मैने आपका लेख पढा, बहुत ज्ञानवर्धक लगा। लिंक यहां देने का धन्यवाद।
    समीर जी और रत्ना जी,
    टिप्पणी के लिये विशेष धन्यवाद।

     
  • प्रेषक: Blogger Dawn....सेहर [ Wednesday, August 16, 2006 3:14:00 PM]…

    वाह, क्‍या खूब लिखा है छाया साहब... हमने तो शायद सोचा भी नहीं था ‌
    लेकिन अब जान गये मुश्‍िकलों में कहॉ आना है ‌
    हमारे दरवाज़े तक दस्‍तक देने का बेहद शुक्रिया...आते रहियेगा
    धन्‍यावाद
    फिज़ा

     
  • प्रेषक: Blogger Manish [ Thursday, August 17, 2006 7:03:00 AM]…

    पहले विदेश यात्रा का मुहूरत तो निकले :)
    खैर हमने इस पोस्ट की लिंक संभाल कर रख ली है, ना जाने कब जुरूरत पड़े !

     
  • प्रेषक: Blogger vijay singh "kaushik" [ Wednesday, December 11, 2013 6:03:00 AM]…

    बहुत कम की बाते आप ने हिंदी में दी है। उसके लिए आप बधाई के पात्र है।

     
  • प्रेषक: Blogger vijay singh "kaushik" [ Wednesday, December 11, 2013 6:03:00 AM]…

    बहुत कम की बाते आप ने हिंदी में दी है। उसके लिए आप बधाई के पात्र है।

     

प्रतिक्रिया प्रेषित करें

<< वापस